Aarti

Shyam Baba Aarti (श्याम बाबा आरती)

श्री खाटू श्यामजी की आरती ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥ ॐ जय श्री श्याम हरे॥ रतन जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुरे। तन केसरिया बागो, कुण्डल श्रवण पड़े॥ ॐ जय श्री श्याम हरे॥ गल पुष्पों की माला, सिर पर मुकुट धरे। खेवत धूप अग्नि …

Shyam Baba Aarti (श्याम बाबा आरती) Read More »

Gau Mata Aarti (गौ माता आरती)

श्री गौमाताजी की आरती   आरती श्री गैय्या मैंय्या की, आरती हरनि विश्‍व धैय्या की। आरती श्री गैय्या मैंय्या की…   अर्थकाम सद्धर्म प्रदायिनी, अविचल अमल मुक्तिपद्दायिनी। सुर मानव सौभाग्या विधायिनी, प्यारी पूज्य नन्द छैय्या की॥ आरती श्री गैय्या मैंय्या की…   अखिल विश्व प्रतिपालिनी माता, मधुर अमिय दुग्धान्न प्रदाता। रोग शोक संकट परित्राता, भवसागर …

Gau Mata Aarti (गौ माता आरती) Read More »

Shitala Mata Aarti (शिताल माता माताती)

श्री शीतला माता की आरती   जय शीतला माता, मैया जय शीतला माता। आदि ज्योति महारानी सब फल की दाता॥ ॐ जय शीतला माता…   रतन सिंहासन शोभित, श्वेत छत्र भाता। ऋद्धि-सिद्धि चँवर डोलावें, जगमग छवि छाता॥ ॐ जय शीतला माता…   विष्णु सेवत ठाढ़े, सेवें शिव धाता। वेद पुराण वरणत पार नहीं पाता॥ ॐ …

Shitala Mata Aarti (शिताल माता माताती) Read More »

Gayatri Mata Aarti (गायत्री माता आरती)

श्री गायत्रीजी की आरती जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥ जयति जय गायत्री माता… आदि शक्ति तुम अलख निरञ्जन जग पालन कर्त्री। दुःख, शोक, भय, क्लेश, कलह दारिद्रय दैन्य हर्त्री॥ जयति जय गायत्री माता… ब्रहृ रुपिणी, प्रणत पालिनी, जगतधातृ अम्बे। भवभयहारी, जनहितकारी, सुखदा जगदम्बे॥ जयति जय …

Gayatri Mata Aarti (गायत्री माता आरती) Read More »

Tulasi Mata Aarti (तुलसी माता आरती)

श्री तुलसी जी की आरती   जय जय तुलसी माता, सबकी सुखदाता वर माता। सब योगों के ऊपर, सब रोगों के ऊपर, रुज से रक्षा करके भव त्राता। जय जय तुलसी माता। बहु पुत्री है श्यामा, सूर वल्ली है ग्राम्या, विष्णु प्रिय जो तुमको सेवे, सो नर तर जाता। जय जय तुलसी माता। हरि के …

Tulasi Mata Aarti (तुलसी माता आरती) Read More »

Lalita Mata Aarti (ललिता माता आरती)

आरती ललिता माता की   श्री मातेश्वरी जय त्रिपुरेश्वरी। राजेश्वरी जय नमो नमः॥   करुणामयी सकल अघ हारिणी। अमृत वर्षिणी नमो नमः॥   जय शरणं वरणं नमो नमः। श्री मातेश्वरी जय त्रिपुरेश्वरी॥   अशुभ विनाशिनी, सब सुख दायिनी। खल-दल नाशिनी नमो नमः॥   भण्डासुर वधकारिणी जय माँ। करुणा कलिते नमो नम:॥   जय शरणं वरणं …

Lalita Mata Aarti (ललिता माता आरती) Read More »

Parvati Mata Aarti (पार्वती माता आरती)

पार्वती माता जी की आरती   जय पार्वती माता जय पार्वती माता। ब्रह्म सनातन देवी शुभ फल की दाता॥   जय पार्वती माता अरिकुल पद्म विनाशिनि जय सेवक त्राता। जग जीवन जगदम्बा, हरिहर गुण गाता॥   जय पार्वती माता सिंह को वाहन साजे, कुण्डल हैं साथा। देव वधू जस गावत, नृत्य करत ताथा॥   जय …

Parvati Mata Aarti (पार्वती माता आरती) Read More »

Ekadashi Mata Aarti (एकदशी माता आरती)

एकादशी माता की आरती   ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता। विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता॥   ॐ जय एकादशी…॥ तेरे नाम गिनाऊं देवी, भक्ति प्रदान करनी। गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी॥   ॐ जय एकादशी…॥ मार्गशीर्ष के कृष्णपक्ष की उत्पन्ना, विश्वतारनी जन्मी। शुक्ल पक्ष में …

Ekadashi Mata Aarti (एकदशी माता आरती) Read More »

Ahoi Mata Aarti (अहो माता आरती)

आरती अहोई माता की   जय अहोई माता, जय अहोई माता। तुमको निसदिन ध्यावत हर विष्णु विधाता॥   जय अहोई माता॥ ब्रह्माणी, रुद्राणी, कमला तू ही है जगमाता। सूर्य-चंद्रमा ध्यावत नारद ऋषि गाता॥   जय अहोई माता॥ माता रूप निरंजन सुख-सम्पत्ति दाता। जो कोई तुमको ध्यावत नित मंगल पाता॥   जय अहोई माता॥ तू ही …

Ahoi Mata Aarti (अहो माता आरती) Read More »

Durga Mata Aarti (दुर्गा माता आरती)

आरती श्री दुर्गाजी   अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली, तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती। तेरे भक्त जनो पर माता भीर पड़ी है भारी। दानव दल पर टूट पड़ो माँ करके सिंह सवारी॥ सौ-सौ सिहों से बलशाली, है अष्ट भुजाओं वाली, दुष्टों को तू ही …

Durga Mata Aarti (दुर्गा माता आरती) Read More »